नरसिंहपुर

राष्ट्रीय युवा दिवस पर कार्यशाला सम्पन्न

नरसिंहपुर/नरसिंहपुर केसरी-  स्वामी विवेकानंद की 158 वीं जयंती राष्ट्रीय युवा दिवस पर जिला स्तरीय संवाद कार्यशाला का आयोजन कलेक्टर रोहित सिंह की अध्यक्षता में नि:शुल्क कोचिंग उड़ान डाइट सभागार में किया गया। कार्यशाला का आयोजन मध्यप्रदेश जनअभियान परिषद नरसिंहपुर के तत्वावधान में किया गया। कार्यक्रम में रामकृष्ण सेवा मिशन मठ सगुन घाट करेली के स्वामी मानदानंद, डाइट प्राचार्य सुंदरलाल धुर्वे, विवेक सिंह, शिक्षक व छात्र- छात्रायें मौजूद थी।

स्वामी विवेकानंद के विचार समूचे राष्ट्र एवं विश्व को देगें मार्गदर्शन

         कार्यशाला में कलेक्टर सिंह ने कहा कि स्वामी विवेकानंद के विचार लोगों को उत्साह, ऊर्जा व प्रोत्साहन देने का कार्य करते हैं। स्वामी विवेकानंद शक्तिपुंज, संकल्पपुंज, विचारों की ज्वलंत लौ हैं, उनके विचारों से भारत के निर्माण में लगे लोगों, युवाओं, छात्र- छात्राओं को हमेशा प्रेरणा मिलती रहेगी। उनके विचार हमेशा राष्ट्र और पूरे विश्व को सदैव मार्गदर्शन करते रहेंगे। श्री सिंह ने स्वामी विवेकानंद के विचारों को अपने जीवन में उतारने का आग्रह नागरिकों और युवाओं से किया। जब हम उनके विचारों को आत्मसात करेंगे, तो यह उनके प्रति सच्ची श्रद्धा होगी। उनके जीवन व कार्यों से हमें हमेशा सीख मिलती है। कलेक्टर ने स्वामी विवेकानंद एवं उनके गुरू रामकृष्ण परमहंस के व्यक्तित्व एवं कृतित्व की चर्चा करते हुए गुरू- शिष्य के महत्व को रेखांकित किया। श्री सिंह ने स्वामी विवेकानंद के जीवन से संबंधित रोचक दृष्टांत बताये। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद के जीवन से प्रेरणा लेकर विद्यार्थियों को पहले स्वयं को विकसित करने की आवश्यकता है। कलेक्टर ने स्वामी विवेकानंद के “उठो, जागो और तब तक नहीं रूको- जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाये” के विचार से प्रेरणा लेकर जीवन में आगे बढ़ने का आव्हान युवाओं से किया। स्वामी मानदानंद ने स्वामी विवेकानंद के जीवन के विभिन्न पहलुओं और उनके विचारों के बारे में विस्तार से बताया। स्वामी मानदानंद ने स्वामी विवेकानंद के विचारों से युवाओं को प्रेरणा लेने की बात कही। कार्यशाला का शुभारंभ स्वामी विवेकानंद के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर किया गया। कार्यशाला में स्वामी विवेकानंद के विचारों पर आधारित विषय “युवाओं में ही राष्ट्र- समाज में परिवर्तन लाने की शक्ति है” पर वाद- विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें दोनों पक्षों में प्रथम, द्वितीय व तृतीय आने वाले प्रतिभागियों को प्रशस्ति पत्र एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। प्रभावी उदबोधन देने वाली छात्राओं कु. प्रगति गागोलिया एवं कु. शिवानी नेमा को भी सम्मानित किया गया। जिला समन्वयक मप्र जनअभियान परिषद जयनारायण शर्मा ने कार्यक्रम के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम का संचालन प्रतीक दुबे व आभार प्रदर्शन श्रीमती माधवी पाठक ने किया।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close