नरसिंहपुर

वक़्फ़ बोर्ड में ऊंची दुकान फीका पकवान

नरसिंहपुर/नरसिंहपुर केसरी- मध्य प्रदेश में एक लाख करोड़ से अधिक की वक़्फ़ सम्पत्तियों को सहेज कर उसकी आमदनी से गरीब , मोहताज, ज़रूरतमन्दों की भरपूर मदद की जा सकती है और इमाम मोअज़्ज़िनों को भी अच्छी तनखाह दी जा सकती है यही वक़्फ़ जा मक़सद होता है। नाक़ाबिल अफसरों की नालायकी ने इस इदारे को तबाही की कगार पर ला खड़ा कर दिया है।
गरीबो की मदद के हक़ का पैसा सम्मेलनों के नाम पर दावत उड़ाने, अपनी छवि चमकाने, बिना अनुमति के अपने चैम्बर की साजसज्जा,लक्ज़री क्रेटा कार खरीदने, अपने चमचों खुशामदियों को बेनाम भागीदार बनाकर अस्पताल चलाने में बर्बाद करके कर्मचारियों को चमकाओ ओर अपना उल्लू सीधा करो। “हरिराम नाई” जैसे सलाहकार बना कर, ज़िला वक़्फ़ कमेटी अध्यक्ष, मुतावल्लियों को उनके रहमो करम पर छोड़ दिया। एक सड़ी मछली पूरे तालाब को गन्दा करती है वही हाल बोर्ड का है, एक “हरिराम नाई” ने पूरे आफिस का माहौल गन्दा कर रखा है। हमीदिया काम्प्लेक्स में अपने बिल्डर दोस्त या बेनामी पार्टनर को बिना प्रीमियम एक फ्लोर दिलाने की सनक, ज़िद के चलते, बिना सोचे समझे औकाफ अम्मा के वुजूद को खत्म कर चलते बने। पीछे छोड़ गए बदहाली, बद इन्तिज़ामी –

इन्तिज़ार करते रहिये पुराने रिकार्ड के मुताबिक अल्लाह इनको कब सज़ा देता है।

स्थानीय संपादक मोहम्मद आमिर खान की रिपोर्ट  

Tags

Related Articles

Back to top button
Close