नरसिंहपुर

पूरे मनोबल से एकजुट होकर कोरोना का मुकाबला करना होगा – राज्यसभा सांसद कैलाश सोनी

मिले- जुले प्रयासों से हम कोरोना पर विजय पाकर रहेंगे

नरसिंहपुर/नरसिंहपुर केसरी- कोविड – 19 एक वैश्विक महामारी है, इसके कारण निर्मित देश की वर्तमान परिस्थिति किसी दल द्वारा सृजित नहीं हैं, यह अबूझ आपदा है। कोविड-19 का नया स्ट्रेन पिछली बार से अधिक घातक बताया जाता है। कोविड-19 की पहली लहर में सम्पूर्ण समाज के सभी अंगों का भरपूर सहयोग रहा।

   कोविड -19 की पहली लहर के कमजोर होने पर हम भय मुक्त होकर बेपरवाह हो गये। इसी की परिणिति वर्तमान परिस्थिति हैं। कोरोना की दूसरी लहर इतनी तेज है कि व्यवस्थाएं बनाने में सभी जुटे हैं। इसके बावजूद कसर बाकी है। बहुत तेज़ी से व्यवस्थाएं बनाई भी जा रही हैं।  व्यवस्थाएं बनाने में लगे लोग भी इसी समाज का हिस्सा हैं। वर्तमान समय मिलजुल कर इस आपदा से निपटने का है। शासकीय चिकित्सक, कोरोना वारियर्स बगैर थके दिन रात जुटे हुए हैं। शासकीय अस्पतालों की निशुल्क व्यवस्थाओं की तुलना निजी अस्पतालों से की जा सकती है। हमें चिकित्सा जगत के प्रति भी संवेदनशील होना होगा। डॉक्टर , नर्स और पैरामेडिकल स्टाफ भी दिन रात सेवा में जुटा है। उनकी भी अपनी सीमाएं एवं क्षमता है । चिकित्सा जगत के अनेक लोग भी सेवा के दौरान अपनी जान गंवा चुके हैं। ऐसे में हमें फ्रंट लाइन वर्कर्स के साथ भी अपनी सोच और बर्ताव को बदलने की जरूरत हैं। देश में जिस तेजी से कोरोना की दूसरी लहर आई है , उसी तेज़ी से सरकार ने भी व्यवस्थाएं बनाई हैं और उनमें निरंतर सुधार भी किया जा रहा है। रेमडेसिविर इंजेक्शन के दाम घटाए गए हैं। इसके निर्यात पर केंद्र सरकार ने तत्काल रोक लगाई है। दवाओं और इंजेक्शन के उत्पादन को बढ़ाया गया है। शीघ्र ही इसके परिणाम मिलने शुरू हो गये हैं, अब इनका अभाव नहीं रहेगा।

   ऑक्सीजन की पूर्ति के लिए बहुत तेज़ी से कार्य किया जा रहा है, प्रधानमंत्री स्वयं इसकी मॉनीटिरिंग कर रहे हैं। विदेशों की अन्य प्रभावी वैक्सीन के लिए भी तत्काल अनुमति दी जा रही है। रूस की स्पूतनिक एवं अन्य वैक्सीन देश में शीघ्र उपलब्ध होंगी। प्रदेश में रेमडेसिविर इंजेक्शन को वायुयान से उपलव्ध कराया जा रहा है। कोरन्टाइन सेंटर बढ़ाये जा रहे हैं। नए अस्पतालों का निर्माण भी कराया जा रहा है। देश पर आई इस आपदा से सबको मिल कर मुकाबला करना होगा। हमें अभी भी सबसे बुरे समय के लिए तैयार रहना होगा और अच्छे से अच्छे भविष्य की आशा रखना होगी। यह समय है जब सारे देश को एक साथ मिलकर इस आपदा से जूझना होगा और इस पर पूरे मनोबल से विजय हासिल करना होगी।

   लोगों से अनुरोध है कि हमें इस आपदा के भय से बाहर निकलकर इसे अवसर में बदलने के लिए पूरी चेतना के साथ जुटना होगा। भय के माहौल की नकारात्मकता से बचना होगा।अतिरंजित समाचारों पर न तो ध्यान दिया जाए और न ही इसे प्रोत्साहित किया जाए।भयभीत होकर हम मुकाबला नहीं जीत सकते इससे सभी का नुकसान होगा। इस आपदा में रचनात्मक कार्यों पर ध्यान देना होगा और लोगों का हौसला बढ़ाने वाले विचारों को प्रोत्साहित करना होगा।हम पहले की तरह इस आपदा पर विजय पायेंगे। कोरोना पर तभी विजय पाई जा सकती है, जब लोग अत्यावश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें। बाहर निकलते समय मास्क जरूर लगाएं। हाथों को सेनिटाइजर या साबुन- पानी से बार- बार धोते रहें। हमें मास्क लगाने के मामले में राजस्थान के सीकर जिले के उन 5 गांवों से प्रेरणा लेना होगी जो पिछले 13 महीने में कोरोना के संक्रमण से अछूते रहे,वहाँ के लोगों ने मास्क लगाने और सामाजिक दूरी को अपनी रोज़मर्रा की जिंदगी में उतार लिया।हम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इस कथन से इत्तेफाक रखते हैं कि मास्क कफन से छोटा है, इसे आसानी से लगाया जा सकता है। हमें कोरोना के संक्रमण की चैन को तोड़ने के लिए पूरी ताकत से जुटना होगा। साथ ही 45 वर्ष से अधिक के नागरिकों को कोविड -19 का टीका बगैर संशय के लगवाना होगा। यह वैक्सीन पूरी  तरह से प्रभावी है और वैज्ञानिक परीक्षण के बाद ही इसके इस्तेमाल की अनुमति दी गई है।

कैलाश सोनी

राज्यसभा सांसद मध्यप्रदेश एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष लोकतंत्र सेनानी संघ

Tags

Related Articles

Back to top button
Close