नरसिंहपुर

जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन समिति की बैठक सम्पन्न

नरसिंहपुर/नरसिंहपुर केसरी- जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के उद्देश्य से जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक राज्यसभा सांसद कैलाश सोनी, विधायक जालम सिंह पटैल, कलेक्टर वेद प्रकाश, पुलिस अधीक्षक विपुल श्रीवास्तव की उपस्थिति में मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक में लोकसभा सांसद राव उदय प्रताप सिंह वर्चुअल रूप से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े रहे।
बैठक में कलेक्टर वेद प्रकाश द्वारा जिले में कोविड- 19 की रोकथाम एवं बचाव के लिए की गई तैयारियों को पॉवर प्वांइट प्रजेटेंशन के माध्यम से बताया गया। इसमें उन्होंने कोविड- 19 सेंपल, कोरोना पॉजीटिव प्रकरण, जिले में संचालित फीवर क्लीनिक, एक्टिव पॉजिटिव केस, पॉजीटिविटी दर एवं स्वस्थ हुये व्यक्ति, टीकाकरण की स्थिति की विस्तृत जानकारी दी।
बैठक में सुझाव स्वरूप जिले में पुन: क्वारेंटाइन सेंटर प्रारंभ करने की बात कही गई। कोविड टीकाकरण केन्द्रों पर भीड़ की स्थिति न हो, टीकाकरण केन्द्र में टेंट, पेयजल की उचित व्यवस्था हो। होम आईसोलेशन किये गये व्यक्तियों के घरों के बाहर पोस्टर, स्टीकर अनिवार्य रूप से चिपकाये जायें। आयुष विभाग द्वारा काढ़े का वितरण भी पुन: प्रारंभ हो। कोरोना सेंपल किट व्यर्थ न हो और वैक्सीनेशन के डोज भी व्यर्थ न हो इसका स्वास्थ्य विभाग विशेष रूप से ध्यान रखे। विधायक पटैल ने रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए विधायक निधि से 18 लाख रूपये प्रदान करने की स्वीकृति दी गई।
कलेक्टर वेद प्रकाश ने बताया कि जिले में क्वारेंटाइन सेंटर प्रारंभ किये जा चुके हैं। कोरोना के लक्षण वाले व्यक्तियों को कोविड केयर सेंटर में लाकर बेहतर उपचार भी किया जा रहा है। जिला चिकित्सालय में भी पर्याप्त व्यवस्थायें की गई हैं। 5 अप्रैल से कोरोना सेंपलिंग में वृद्धि की जा चुकी है। अब प्रतिदिन लगभग 500 सैंपल लिये जायेंगे। जिले में संचालित फीवर क्लीनिक में यह कार्य लगातार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कोरोना पॉजीटिव होने वाले व्यक्ति के फर्स्ट कांटेक्ट वाले व्यक्तियों का कोरोना टेस्ट 5 दिन बाद करना है। इस आशय के निर्देश शासन स्तर से प्राप्त हुये हैं। इन निर्देशों का व्यापक रूप से जनप्रतिनिधियों के माध्यम से भी प्रचार- प्रसार हो, जिससे कोरोना फीवर क्लीनिक में भीड़ की स्थिति नहीं हो।
समिति द्वारा जिलेवासियों से कहा गया कि कोरोना संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए अत्यधिक सावधानी बरतने की आवश्यकता है। जिलेवासी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन द्वारा चलाये जाने वाले विभिन्न अभियानों में सहभागिता करें एवं निर्देशों का पालन करते हुए सहयोग प्रदान करें। समिति द्वारा कहा गया कि जिले की जनता, समाजसेवी संगठन, एनजीओ ने भरपूर सहयोग किया है। अत्यावश्यक होने की स्थिति में ही घर से निकलें। बिना मास्क के घर से न निकले और भीड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।
समिति ने अपील करते हुए दुकानदारों से कहा कि दुकानदार इस बात का विशेष ध्यान रखें कि दुकान के सामने भीड़ न हो, ग्राहक सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करे और दुकान के सामने आवश्यक रूप से गोल घेरे बने हुये हों। कोरोना से घबराने की आवश्यकता नहीं है। किसी भी प्रकार के कोरोना के लक्षण आने पर तत्काल सूचित करें। स्वयं की एवं अपने परिवार की रक्षा करें।
बैठक में अपर कलेक्टर मनोज ठाकुर, एएसपी सुनील कुमार शिवहरे, सीईओ जिला पंचायत केके भार्गव, सीएमएचओ डॉ. मुकेश कुमार जैन, सिविल सर्जन डॉ. अनीता अग्रवाल, अभिलाष मिश्रा, श्रीमती वंदना पटैल, भगवान सिंह पटैल, विनोद श्रीवास्तव, अन्य जनप्रतिनिधि व अधिकारी मौजूद थे।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close