नरसिंहपुर

जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक सम्पन्न

मास्क लगाने व सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए चलेगा अभियान

नरसिंहपुर/नरसिंहपुर केसरी- जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के उद्देश्य से जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक कलेक्टर वेद प्रकाश की अध्यक्षता में मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक में पुलिस अधीक्षक विपुल श्रीवास्तव, अपर कलेक्टर मनोज ठाकुर, सीईओ जिला पंचायत केके भार्गव, सिविल सर्जन डॉ. अनीता अग्रवाल, डीएचओ और अन्य अधिकारी मौजूद थे।
कुछ राज्यों में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बैठक में कलेक्टर ने स्थानीय निकाय स्तर पर मास्क लगाने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से रोको- टोको अभियान चलाने के निर्देश दिये। मास्क नहीं लगाने पर चालानी कार्रवाई के लिए कहा गया। आवश्यकतानुसार सार्वजनिक स्थानों पर सेनेटाईजेशन कराने पर बल दिया गया। लोगों में कोरोना के संक्रमण से बचाव के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए स्थानीय निकाय द्वारा प्रचार- प्रसार कराने के निर्देश कलेक्टर ने दिये।
कलेक्टर ने निर्देशित किया कि महाशिवरात्रि पर आयोजित होने वाले मेले, सामाजिक कार्यक्रमों व भीड़भाड़ वाले स्थानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराया जावे। जिले के रेलवे स्टेशनों पर मेडिकल टीम लगाकर बाहर से आने वाले व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की जावे और संदिग्ध व्यक्तियों की सेंपलिंग कराई जावे। उन्होंने निर्देशित किया कि महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक से जिले में आने वाले व्यक्तियों की नजदीकी शासकीय अस्पताल/ स्वास्थ्य केन्द्र में सेंपलिंग कराई जावे। बैठक में आम नागरिकों से अपेक्षा की गई कि इन राज्यों से आने वाले व्यक्तियों की सूचना स्वास्थ्य विभाग को दें।
कलेक्टर ने निर्देश दिये कि सेंपलिंग के लिए प्रतिदिवस की निर्धारित की गई सीमा के अनुसार सेंपलिंग कराई जावे। जिले के सभी फीवर क्लीनिक के माध्यम से सेंपलिंग कराई जावे। जिले के सरकारी अस्पतालों में ओपीडी में आ रहे संदिग्ध मरीजों की सेंपलिंग भी कराई जावे।
कलेक्टर ने कहा कि संबंधित विभाग के जिला प्रमुख अधीनस्थ अमले का शतप्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित करायें। उन्होंने निर्देश दिये कि स्वास्थ्य विभाग के अमले और फ्रंट लाइन वर्कर्स का उन्मुखीकरण प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कराया जावे। कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक औषधियों और अन्य सामग्री की उपलब्धता के बारे में बैठक में चर्चा की गई। इस संबंध में कलेक्टर ने सीएमएचओ एवं सिविल सर्जन को आवश्यक दवाईयों और अन्य सामग्री की उपलब्धता बनाये रखने के निर्देश दिये।
सीईओ जिला पंचायत भार्गव ने कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए जिले में की गई तैयारियों से अवगत कराया। उन्होंने जिले में कोविड वैक्सीनेशन के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कोविड वैक्सीन की पहली डोज 6095 के मुकाबले 5135 स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को और 4969 के मुकाबले 4221 फ्रंट लाइन वर्करों को 16 जनवरी से 22 फरवरी के बीच दी जा चुकी है। कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज का टीकाकरण 22 फरवरी से शुरू हो चुका है। इसमें 5135 के मुकाबले 374 स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं का टीकाकरण किया जा चुका है।
भार्गव ने बताया कि जिले में 3542 सेंपल पॉजीटिव पाये गये, जबकि कोरोना के 3500 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं और 30 व्यक्ति की मृत्यु हो गई है। इस तरह अब जिले में कोरोना पॉजीटिव के 12 एक्टिव केस हैं। जिले में अब तक कोविड- 19 के कुल 95 हजार 829 सेंपल लिये गये, इनमें से 143 सेंपल की रिपोर्ट प्रतीक्षारत है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close