नरसिंहपुर

अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस के कार्यक्रम का हुआ आयोजन

नरसिंहपुर/नरसिंहपुर केसरी- बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन कलेक्ट्रेट में रविवार को हुआ। इस कार्यक्रम की थीम “मेरी आवाज- हमारा समान भविष्य है- My voice our equal future” है। कार्यक्रम में कलेक्टर वेद प्रकाश, जिला पंचायत सीईओ केके भार्गव, महिला एवं बाल विकास अधिकारी राधेश्याम वर्मा, विधिक सहायता अधिकारी राजेश सक्सेना, जिले की ब्रांड एम्बेसेडर कु. प्रीति चौधरी, कु. श्वेता साहू, कु. मेमूना खान, महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी सहित महिला प्रतिभागी मौजूद थी।
संवाद, परिचर्चा एवं सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए कु. प्रीति चौधरी के कोच श्री दुबे द्वारा अवगत कराया गया कि प्रीति ने वर्ष 2019 दुबई में स्पेशल ओलंपिक में 100 मीटर दौड़ स्पर्धा में कांस्य पदक जीता है। उन्होंने बताया कि बचपन से ही प्रीति की रूचि खेलों में थी। दिव्यांग होने के बावजूद उसने जिला स्तर, राज्य स्तर एवं राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित प्रतियोगिता में भाग लिया। इसके बाद उनका चयन स्पेशल ओलंपिक के लिए हुआ। प्रीति ने अपनी दिव्यांगता को अपनी कमजोरी न मानते हुए अपनी ताकत बनाई और आज इस मुकाम को हासिल किया है। यह प्रेरणा सभी वर्ग के लोगों के लिए है।
कार्यक्रम में उपस्थित कु. श्वेता साहू ने बताया कि 5 सदस्यीय परिवार में माता- पिता और तीन बहनें हैं। पिता गंभीर बीमारी से ग्रसित है। दो वक्त का भोजन भी वमुश्किल प्राप्त हो पाता था। इन प्रतिकूल परिस्थितियों में श्वेता ने घर की जिम्मेदारी उठाई और अपनी पढ़ाई के साथ- साथ सिलाई का कार्य भी सीखा। पड़ोसियों की मदद से उसने एक पुरानी सिलाई मशीन खरीदी और सिलाई कार्य करने लगी, इससे कुछ आय प्राप्त होने लगी। इन कामों के अलावा श्वेता पड़ोस के बच्चों को भी पढ़ाई का काम करती रही। श्वेता की इस लगन के कारण उसने 10 वीं कक्षा में 88 प्रतिशत अंक प्राप्त कर स्कूल में प्रथम स्थान प्राप्त किया। श्वेता के इस सिलाई कार्य का लाभ कोरोना काल के शुरूआती दौर में प्राप्त हुआ। उसने कपड़ों के मास्क बनाकर कम दाम पर उपलब्ध करवाये। वह बताती हैं कि जिन गरीब लोगों के पास पैसे नहीं होते थे, उन्हें नि:शुल्क मास्क उपलब्ध कराती थी। लड़की होने के बावजूद उसने अपनी जिम्मेदारी निभाई। वह कहती है कि समाज में बेसहारा महिलाओं एवं बालिकाओं को नि:शुल्क सिलाई कार्य सिखाने की ठानी है। तदुपरांत मेमूना खान ने बताया कि वर्ष 2012 से अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरूआत संयुक्त राष्ट्र द्वारा की गई, जिसका उद्देश्य बालिकाओं की सुरक्षा एवं समाज में उनकी सहभागिता सुनिश्चित करना है।
कलेक्टर वेद प्रकाश ने कहा कि जीवन में निर्णय लेने का अधिकार महत्वपूर्ण होता है। हम अपना निर्णय स्वयं ले पा रहे हैं या नहीं, इसका विचार करना आवश्यक है। समाज में व्याप्त कुरीतियों एवं कुप्रभाव को तोड़ने के लिए वैज्ञानिक तरीके से विचार करने की आवश्यकता होती है। हर किसी को अपनी लड़ाई लड़नी होती है। जीवन में किस प्रकार फैसले लेकर विपरीत परिस्थितियों से संघर्ष पड़ता है और जीत हासिल करते हैं, इसका जीवंत उदाहरण इन बेटियों ने दिया है। इसकी वह भरपूर प्रशंसा करते हैं। उन्होंने कहा कि इन बेटियों के संघर्ष से सभी को सीख लेनी चाहिये।
विधिक सहायता अधिकारी राजेश सक्सेना द्वारा बालिकाओं की सुरक्षा एवं संरक्षण के लिए सरकार द्वारा उठाये गये कदमों की विस्तृत जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि परिवार ही वह सीढ़ी है जिसके द्वारा संस्कारों का अर्जन होता है। वर्तमान परिदृश्य में लड़का हो या लड़की में भेदभाव न करते हुये नकारात्मक मनोवृत्ति से दूर होते हुये सकारात्मक रवैया अपनाने की आवश्यकता है।
कार्यक्रम में अतिथियों द्वारा मेहंदी प्रतियोगिता में सभ्यता जायसवाल प्रथम, संस्कृति जायसवाल द्वितीय व अनीता चौधरी तृतीय, रंगोली प्रतियोगिता में संस्कृति प्रथम, स्नेहा कहार द्वितीय, नंदनी विश्वकर्मा तृतीय व श्रेया रैकवार चौथा पुरस्कृत किया गया। इसी तरह उड़ान नि:शुल्क कोचिंग नरसिंहपुर द्वारा आयोजित कार्यक्रमों में भी पुरस्कार वितरित किये गये। निबंध प्रतियोगिता में आयुषी खिरा एवं निकिता अवस्थी प्रथम, अंशिका नेमा द्वितीय व शरद बाबू यादव तृतीय, क्विज प्रतियोगिता में शिवानी चौरसिया प्रथम, शिवम पगारे एवं शुभम कौरव द्वितीय व समर्थ साहू तृतीय, रंगोली प्रतियोगिता में दीक्षा मेहरा एवं शिवानी नेमा प्रथम, रानी राजोरिया एवं प्रियंका शर्मा द्वितीय व अनीता रजक एवं रीता नेमा तृतीय, पोस्टर प्रतियोगिता में दीक्षा शर्मा एवं रितिक शर्मा प्रथम, ऋतु पटैल द्वितीय व प्रियंका नेमा तृतीय, मेंहदी प्रतियोगिता में पद्मा कुशवाहा प्रथम, अंजली साहू एवं रश्मि चौधरी द्वितीय व जीनत मंसूरी तृतीय और भाषण प्रतियोगिता में सुरभि चौरसिया प्रथम, अनुज बोहरे द्वितीय, शुभम शर्मा व निशि पटैल तृतीय स्थान प्राप्त किया।
कार्यक्रम उपरांत कलेक्टर वेद प्रकाश, जिला पंचायत सीईओ केके भार्गव, महिला एवं बाल विकास अधिकारी राधेश्याम वर्मा, जिले की ब्रांड एम्बेसेडर कु. प्रीति चौधरी, कु. श्वेता साहू द्वारा जनजागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। राधेश्याम वर्मा द्वारा बताया गया कि यह रथ सभी ब्लाकों में जाकर लिंगानुपात को बढ़ाने एवं बालिका की सुरक्षा तथा समाज में उनके सहभागिता सुनिश्चित करने का कार्य करेंगे।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close