जबलपुर समाचार

नर्मदा नदी के प्रवाह को निर्मल एवं अविरल बनाए रखने चौड़ी हरित पट्टी आवश्यक 

हरित पट्टी विकास कार्ययोजना बनाने में कृषक जागरूकता को शामिल किया जाए – संभागायुक्त श्री बहुगुणा

जबलपुर- नर्मदा नदी के प्रवाह को सदैव अविरल और निर्मल बनाए रखने के लिए नदी के दोनों किनारों पर दो किलोमीटर चौड़ी सघन वृक्षों से आच्छादित हरित पट्टी को विकसित करने के लिए कार्ययोजना बनाई जा रही है। इस महत्वपूर्ण कार्य को कृषकों में जागरूकता लाकर जनसहयोग से किया जाना चाहिए।
यह बात संभागायुक्त राजेश बहुगुणा ने ट्रापिकल फारेस्ट रिसर्च संस्थान में नर्मदा नदी की पूरी लम्बाई में नदी के दोनों किनारों पर चौड़ी हरित पट्टी विकसित करने डीपीआर निर्माण के लिए सुझाव हेतु आयोजित बैठक में कही। बैठक में टीएफआरआई के डायरेक्टर डॉ जी राजशेखर राव, पशु चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति, कलेक्टर मण्डला जगदीशचन्द्र जटिया, जिला पंचायत जबलपुर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रियंक मिश्र, कृषि उद्यानिकी जिला पंचायत, वन आदि संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।
संभागायुक्त श्री बहुगुणा ने कहा कि भविष्य में देश के मध्य भाग में विकास की काफी संभावनाएं हैं और यह क्षेत्र, सड़क, रेल मार्गों तथा औद्योगिक विकास की नई ऊंचाईयां प्राप्त करेगा। ऐसी स्थिति में नदियों और जल स्त्रोतों पर दोहन का भार पड़ेगा। अत: आवश्यक है कि पर्याप्त समय पहले से ही शासन और जनसमुदाय की संयुक्त भागीदारी से नदियों के संरक्षण और संवर्धन के ठोस कार्य किए जाएं।
संभागायुक्त श्री बहुगुणा ने कहा कि नर्मदा नदी के दोनों किनारों पर सघन हरित पट्टी को शहरी क्षेत्र, वन क्षेत्र और कृषि क्षेत्रों की  भूमि पर विकसित करना होगा। डीपीआर में कृषि क्षेत्रों में हरित पट्टी निर्माण पर अधिक ध्यान देना होगा। ऐसी योजना बनानी होगी कि किसी भी किसान को नुकसान नहीं हो और कृषकों का व्यापक सहयोग मिले। क्रापिंग पैटर्न में आने वाले बदलाव के लिए कृषकों को जागरूक करना होगा। यह कार्य शीघ्रतिशीघ प्रारंभ करना होगा।
संभागायुक्त श्री बहुगुणा ने कहा कि शासन की नदी पुनर्जीवन योजना के तहत काफी कार्य जिला पंचायतों द्वारा किए जा रहे हैं। जिलों में बनी नदी पुनर्जीवन कार्ययोजना पर नर्मदा नदी के किनारों पर हरित पट्टी निर्माण की कार्ययोजना बनाने में विचार के लिए रखा जा सकता है।
मण्डला जिले के कलेक्टर श्री जटिया और जिला पंचायत के सीईओ प्रियंक मिश्रा ने अनेक सुझाव दिए। बैठक में टीएफआरआई के डायरेक्टर सहित विषय विशेषज्ञों द्वारा उपयोगी तथ्यात्मक जानकारियां प्रस्तुत की गईं।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close