नरसिंहपुर

उपार्जित उड़द/ मूंग की बकाया राशि का जिले के किसानों को होगा भुगतान राज्य शासन ने दी स्वीकृति

विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रजापति व प्रभारी मंत्री श्री भनोत की पहल पर मिली स्वीकृति

नरसिंहपुर14 अगस्त 2019. खरीफ विपणन वर्ष 2018- 19 में प्राइज सपोर्ट स्कीम के अंतर्गत जिले के पंजीकृत किसानों से उपार्जित उड़द/ मूंग की बकाया राशि का भुगतान करने की स्वीकृति राज्य शासन के किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग ने दी है। इसके लिए निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार कार्रवाई पूर्ण करने के निर्देश प्रबंध संचालक मप्र स्टेट सिविल सप्लाईज कार्पोरेशन और कलेक्टर नरसिंहपुर को प्रमुख सचिव कृषि द्वारा दिये गये हैं। यह स्वीकृति मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष श्री नर्मदा प्रसाद प्रजापति की पहल पर प्रदेश के वित्‍त, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री तरूण भनोत के प्रयासों से मिली है।

         उल्‍लेखनीय है कि कलेक्टर नरसिंहपुर द्वारा उपार्जित उड़द की 18371.50 क्विंटल तथा मूंग की 172 क्विंटल मात्रा को नफेड द्वारा नियुक्‍त सर्वेयर द्वारा गोदाम स्तर पर अस्वीकृत कर अपग्रेड कराने के लिए उपार्जन समिति को कहा गया, परंतु सीमा से अधिक उपार्जित उड़द की अनुमति नहीं होने से उक्‍त मात्रा स्वीकार न कर निराकरण नहीं किये जाने से अवगत कराया गया। कलेक्टर ने कृषक हित में उपार्जित उड़द/ मूंग का अपग्रेडेशन कराने की अनुमति एवं अपग्रेडेशन से प्राप्त एफएक्यू मात्रा के अनुरूप भुगतान के लिए राशि तथा शेष रिजेक्ट मात्रा की नीलामी के बाद क्षतिपूर्ति राशि उपलब्ध कराने का अनुरोध शासन से किया था।

         इस सिलसिले में निस्तारण के लिए पूर्व में जारी निर्देशों के अनुसार निर्धारित कार्रवाई पूर्ण करने के निर्देश कृषि विभाग द्वारा जारी किये गये हैं। जारी निर्देशों में कहा गया है कि अमानक स्तर की उपार्जन अवधि में प्राप्त उड़द/ मूंग की समिति स्तर पर ग्रेडिंग की जाकर इसे एफएक्यू स्तर पर लाया जाये। फिर समर्थन मूल्य पर क्रय किये जाने की विधि के अनुरूप कार्रवाई उपार्जन संस्था द्वारा की जाये। राज्य उपार्जन एजेंसी अपने स्वयं के स्रोतों से भुगतान सुनिश्चित करें। अपग्रेडेशन की लागत का वित्‍तीय भार संबंधित उपार्जन समिति द्वारा वहन किया जाये। अपग्रेडिंग के बाद शेष नॉन एफएक्यू उड़द/ मूंग के निस्तारण के लिए संबंधित उपार्जन समिति द्वारा खुले बाजार में पारदर्शी रूप से प्रतिस्पर्धात्मक तरीके से विक्रय किया जावे। इस प्रकार निष्पादित उड़द के विक्रय एवं समर्थन मूल्य के अंतर की राशि का वहन उपार्जन समिति द्वारा किया जावे।

         पंजीकृत कृषकों द्वारा नियत अवधि में लाई गई उड़द/ मूंग की सत्यापित बोनी क्षेत्र के मान से पात्रता की सीमा में आने वाले एफएक्यू उड़द/ मूंग के राज्य उपार्जन एजेंसी मप्र स्टेट सिविल सप्लाईज कार्पोरेशन और कलेक्टर नरसिंहपुर के अधीन की गई निस्तारण/ नीलामी से प्राप्त राशि उपार्जन समिति द्वारा किसानों के खाते में जमा कराई जायेगी।

         समर्थन मूल्य से अंतर की राशि की क्षतिपूर्ति के लिए खाद्य विभाग द्वारा प्रेषित मंत्री- परिषद संक्षेपिका पर निर्णय के अनुसार कार्रवाई की जायेगी।

         इस सिलसिले में आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये हैं।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close