प्रादेशिक

बिजली का तार गिरा बच्चे के ऊपर, बेटे को बचाकर खुद मौत को गले लगा लिया माँ ने

सतना। घर के पास ही खेल रहा एक मासूम खंभे से टूट कर गिरे विद्युत तार की चपेट में आ गया। बच्चे की बहन ने शोर करते हुए मां को बुलाया तो कलेजे के टुकड़े को करंट से दूर फेंक मां खुद ही तार में उलझ गई। किसी तरह गांववालों ने उसे करंट से तार से बचाकर अस्पताल पहुंचाया पर जान नहीं बच सकी। रामपुर बाघेलान थाना क्षेत्र के मरौंहा गांव में शनिवार की शाम हुई इस घटना के बाद गांव वाले खासे आक्रोशित हैं। रविवार को शव का पोस्टमार्टम होने के बाद ग्रामीणों ने माधवगढ़ स्थित विद्युत कंपनी के दफ्तर का घेराव कर दिया। यहां तालाबंदी करते हुए मुआवजे की मांग को लेकर कई घंटे ग्रामीण डटे रहे।

सूत्रों के अनुसार, मरौंहा निवासी तुलसीदास कुशवाहा का पुत्र सर्वेश कुशवाहा (5) घर के पास ही खेल रहा थ। नजदीक ट्रांसफार्मर लगा है। इसका एक तार टूटकर गिर गया। करंट के तार में सर्वेश उलझा तो उसकी बड़ी बहन संजना ने दौड़कर मां कुंती कुशवाहा को बताया। कुंती भागते हुए आई और बच्चे को करंट के तार से दूर फेंक खुद बचने की कोशिश की। बच्चा तो बच गया लेकिन कुंती तार में उलझ गई। गांव वालों ने किसी तरह उसे करंट से दूर कर अस्पताल भेजा। वहां डॉक्टरों ने कुंती को मृत घोषित कर दिया।

सुबह से शाम तक प्रदर्शन घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने सुबह से ही माधवगढ़ स्थित बिजली ऑफिस का घेराव कर दिया था। यहां दफ्तर के कमरे में बाहर से ताला जड़ दिया गया। लेकिन विद्युत आपूर्ति बाधित नहीं की गई थी। बाहर खड़े ग्रामीणों की मांग थी कि जेई संजय सिंह को हटाते हुए कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही पीडि़त परिवार को मुआवजा दिया जाए। माहौल को संभालने कोटर से जेई व तहसीलदार पहुंचे तो ग्रामीणों से बात की गई। किसी तरह आश्वासन पर ग्रामीण माने पर पीडि़त परिवार को 10 हजार रुपए की सहायता राशि दिलाई गई।

किसान की करंट से मौत सभापुर थाना अंतर्गत घोरकाट गांव में एक किसान की करंट से मृत्यु हो गई। सूत्रों के अनुसार, घोरकाट निवासी अरुणेन्द्र त्रिपाठी (64) मोटर पंप का स्टार्टर चालू कर रहे थे। तभी अचानक करंट लगने से उनकी मृत्यु हो गई। सूचना मिलने पर पुलिस ने मृतक का शव पोस्टमार्टम के लिए रवाना कर मामले को जांच में लिया है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close