Technology

एक छोटी-सी गलती आपको बना सकती है ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार, जानें कैसे बचें

नई दिल्ली, ऑनलाइन शॉपिंग का चलन तेज हो चला है। समय के साथ-साथ लोगों की ऑनलाइन खरीदारी का शौक भी बढ़ रहा है। लोगों का समय के साथ-साथ ऑनलाइन खरीदारी पर भरोसा भी बढ़ गया है। इससे लोग घर बैठे ही वो सभी सामान अपने घर मंगवा सकते हैं जिसकी उन्हें जरूरत है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऑनलाइन शॉपिंग में की गई एक छोटी-सी गलती आपके लिए बेहद नुकसानदेह साबित हो सकती है। इससे बचने के लिए हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जिसका अगर आप ख्याल रखें तो आप ऑनलाइन हैकिंग या किसी भी अन्य परेशानी से बच सकते हैं।

वेबसाइट की करें पहचान: जब भी किसी वेबासइट से शॉपिंग करें तो उसकी पहचान होनी बेहद आवश्यक है। ऐसा इसलिए क्योंकि आजकल कई कंपनियां अमेजन और फ्लिपकार्ट के नाम से फर्जी लिंक शेयर करती हैं और ऐसे विज्ञापन देती हैं कि लोग उनके झांसे में आ जाएं। इस तरह के विज्ञापनों में महंगे सामान को बेहद कम कीमत में खरीदने का लालच देते हैं। ऐसे में अगर आप इनके झांसे में आ जाए तो आपको नकली सामना भेज दिया जाता है या फिर आपसे पैसे ऐंठ लिए जाते हैं।

इस तरह करें पहचान: वेबसाइट सिक्योर है या नहीं इस बात की जानकारी होना बेहद आवश्यक है। अगर वेबसाइट के URL की शुरुआत में हरें रंग का लॉक है या फिर उसमें https नहीं है तो वो वेबसाइट सिक्योर नहीं है। इस तरह की वेबसाइट से क्रेडिट/डेबिट कार्ड या बैंक से संबंधित निजी जानकारी चोरी की जा सकती है।

विज्ञापन पर दें खास ध्यान: हमारे पास सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर कई ऐसे विज्ञापन आते हैं जिसमें हजारों की चीज 100 या 150 रुपये में खरीदने का मौका दिया जाता है। इस तरह के मैसेजेज के लिए अमेजन और फ्लिपकार्ट जैसी वेबसाइट का लोगो भी इस्तेमाल किया जाता है। अगर इस विज्ञापन को ध्यान से देखा जाए तो इनका URL अलग नाम से होता है। इस तरह के विज्ञापन पर भरोसा करना हानिकारक हो सकता है। इससे आपके पास नकली सामान भी डिलीवर किया जा सकता है।

इस तरह करें असली-नकली प्रोडक्ट की पहचान: मार्केट की मांग को ध्यान में रखते हुए ये फर्जी वेबसाइट्स किसी भी प्रोडक्ट को कम या ज्यादा रख देते हैं। अगर आप किसी भी वेबसाइट से कोई प्रोडक्ट खरदीते हैं तो उसके लेबल को ध्यान से देखें। आपको बता दें कि अमेजन या फ्लिपकार्ट द्वारा बेचे जाने वाले प्रोडक्ट्स पर flipkart assured और amazon fulfilled का लेबल लगा होता है। अगर किसी वेबसाइट पर लेबल न हो तो उन्हें बिल्कुल न खरीदें।

कैश ऑन डिलीवरी होती है सेफ: जब भी हम ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं तो ज्यादातर हम पहले ही पेमेंट कर देते हैं। वहीं, इसके बाद अगर आपके पास प्रोडक्ट नहीं पहुंचता है तो आपको कम्प्लेंट आदि करनी पड़ जाती है। इन्हीं सब फ्रॉड से बचने के लिए कैश ऑन डिलीवरी सबसे अच्छा तरीका है। इसमें पहले सामान आपके पास पहुंच जाता है, उसके बाद आपको पेमेंट करना होता है। इससे धोखाधड़ी का खतरा नहीं रहता है। इसके अलावा किसी भी वेबसाइट पर अपना डेबिट या क्रेडिट कार्ड सेव न करें।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close