जिला समाचार

पीने के पानी की समुचित व्यवस्था, साफ- सफाई व कचड़ा प्रबंधन पर दें विशेष ध्यान

समय सीमा की बैठक में कलेक्टर के निर्देश

नरसिंहपुर03 जून2019.कलेक्टर दीपक सक्सेना ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि पीने के पानी की समुचित व्यवस्था, साफ- सफाई व कचड़ा प्रबंधन पर विशेष ध्यान दिया जावे। इसके लिए जिले के नगरीय क्षेत्रों के साथ- साथ ग्रामीण अंचल में भी सतत मॉनिटरिंग की जावे। श्री सक्सेना सोमवार को समय सीमा की बैठक में अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे।

बैठक में कलेक्टर ने विभागीय योजनाओं, सीएम हेल्पलाइन, व्यापक जनहित से जुड़े समाचारों की पेपर कटिंग और अन्य प्राप्त शिकायतों की गहन समीक्षा की।

उल्‍लेखनीय है कि प्रत्येक सोमवार आयोजित होने वाली समय सीमा की बैठक को अधिक प्रभावशाली व परिणाम मूलक बनाने और लोगों की समस्याओं व शिकायतों के निराकरण से जुड़े मुद्दों, योजनाओं की गहन समीक्षा करने के उद्देश्य से कलेक्टर ने प्रत्येक सोमवार के लिए अलग- अलग विभागवार दिन निर्धारित किये हैं, ताकि शिकायतों व समस्याओं का तत्परता से निदान सुनिश्चित किया जा सके।

बैठक में अपर कलेक्टर मनोज ठाकुर, अनुविभागीय राजस्व अधिकारी महेश कुमार बमनहा, जीसी डेहरिया, आरएस राजपूत व राजेश शाह, डिप्टी कलेक्टर संघमित्रा बौद्ध, सभी जनपदों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारी और अन्य अधिकारी मौजूद थे।

कलेक्टर ने जिले के नगरीय क्षेत्रों की समीक्षा करते हुए कहा कि सार्वजनिक स्थलों, बस स्टेंड आदि स्थानों पर समुचित साफ- सफाई, पीने के पानी की सुचारू आपूर्ति, पानी की शुद्धता पर विशेष ध्यान दिया जावे। इसके लिए एसडीएम, तहसीलदार और मुख्य नगर पालिका अधिकारी क्षेत्र का लगातार भ्रमण करें और व्यवस्थाओं को दुरूस्त करें। पीने के पानी के गंदे होने की जानकारी मिलने पर इसका सैम्पल लेकर परीक्षण करायें, ब्लीचिंग पाउडर डलवायें। पानी पीने योग्य नहीं हो, तो इस आशय की सूचना पेयजल स्रोत के समीप प्रदर्शित की जावे। आवश्यकतानुसार पानी के टेंकर से पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करायें। नगरीय क्षेत्र में कम से कम एक अच्छा बगीचा विकसित किया जावे। कचरा प्रबंधन पर विशेष ध्यान दें। नाले- नालियों की साफ- सफाई कराई जावे। इसके लिए अभियान चलायें।

अस्थाई अतिक्रमण हटवाने अभियान चलायें

नगरीय क्षेत्रों में दुकानदारों द्वारा दुकान के बाहर सामान रखकर अस्थाई रूप से अतिक्रमण कर लिया जाता है, इससे आवागमन में बाधा उत्पन्‍न होती है। कलेक्टर ने इस तरह के अस्थाई अतिक्रमण को हटवाने के लिए नगरीय क्षेत्रों में पुलिस के साथ मिलकर अभियान चलाने के निर्देश मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को दिये।

पानी की टंकियों की साफ- सफाई नियमित रूप से हो

कलेक्टर ने मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को निर्देश दिये कि पानी की टंकियों की साफ- सफाई नियमित रूप से हो। जीर्णशीर्ण टंकियों का परीक्षण कर पहचान की जावे। इसके लिए एक टीम गठित कर जांच करें। यह सुनिश्चित किया जावे कि टंकी के नीचे व आसपास कोई अस्थाई निवास बनाकर नहीं रहे। पुराने कमजोर पेड़ों, यूकेलिप्टस आदि का भी परीक्षण करा लिया जावे।

दूषित खाद्य सामग्री का विक्रय नहीं हो

कलेक्टर ने निर्देश दिये कि जिले में खुले में रखकर खाद्य सामग्री का विक्रय नहीं हो। यह सुनिश्चित किया जावे कि किसी भी स्थिति में दूषित या एक्सपायरी डेट वाली खाद्य सामग्री/ खाने पीने के सामान का विक्रय नहीं हो। इस बारे में स्थानीय प्रशासन और उपभोक्‍ता दोनों सजग रहें। दूषित खाद्य सामग्री विक्रय की स्थिति में संबंधित के विरूद्ध कार्रवाई की जावे।

मैरिज गार्डन की गाईड लाइन्स का पालन हो

कलेक्टर ने निर्देश दिये कि मैरिज गार्डन की गाईड लाइन्स का पालन सुनिश्चित किया जावे। इसके लिए अधिकारी मैरिज गार्डन का निरीक्षण करें।

अमानक चना खरीदी मामले में अधिकारी की जिम्‍मेदारी तय हो

गोटेगांव में अमानक चना खरीदी के मामले की समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने निर्देश दिये कि चना एवं गेहूं खरीदी में जिन सरकारी अधिकारी की ड्यूटी लगी है, उनकी जिम्‍मेदारी तय की जावे और आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित हो।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close