जिला समाचार

जिले की गम्भीर समस्याओं को लेकर विधायक जालम सिंह पटैल ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी एवं आयुक्त को पत्र लिखा

नरसिंहपुर जिले में गेहूं फसल की खरीदी गन्ना भुगतान एवं आचार संहिता लागू रहने के दौरान तेंदूपत्ता संग्रहण में लगे मुंशियों के तबादले के संबंध एवं गोटेगांव क्षेत्र के वैध खदानों को बंद कराकर एवं अवैध खदानों को चालू कराने के संबंध में शासन के पूर्व मंत्री एवं नरसिंहपुर विधायक श्री जालम सिंह पटेल ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी नई दिल्ली व आयुक्त जबलपुर को शिकायती पत्र लिखा।
श्री पटेल ने शिकायती पत्र में उल्लेख किया है कि नरसिंहपुर जिला मुख्य रूप से कृषि प्रधान जिला है वर्तमान में किसानों के गेहूं की खरीदी बंद है एवं पूर्व में जो गेहूं खरीदी की गई थी जिसका भुगतान अभी तक किसानों को नहीं किया गया है पानी पड़े गेहूं को भी नहीं खरीदा जा रहा है सर्वेयर टीम पैसे लेकर बारदाना एवं सैंपल पास कर रही है इसी प्रकार जिले में 15 वर्षों से काम करने वाले तेंदूपत्ता के फड़ मुंशियों को राजनीतिक अनुशंसा पर आदर्श आचार संहिता के बाद भी बदल दिए गए जिसकी कोई शिकायत नहीं थी और ना ही चुनाव आयोग से इनको बदलने की स्वीकृति ली गई थी इसी प्रकार नरसिंहपुर जिला अंतर्गत तहसील गोटेगांव में रेत की वैध खदानों को बंद करवा कर अवैध खदानों को जिले के कलेक्टर द्वारा चलवाई जा रही हैं वेध खदानों में चल रहे डंफरो को बंद कराया जा रहा है और अवैध खदानों में चल रह डंफरो को अवैध रूप से चलावाया जा रहा है वेध खदानों के खाली डंपर जप्त किए जा रहे हैं जबकि सिद्घघाट गंगाई घाट झांसी घाट मेला स्थल से लगातार रेत का अवैध उत्खनन चल रहा है जिसकी टीम भेजकर जांच कराई जा सकती है पानी के अंदर से रेत पम्पों द्वारा निकाली जा रही है माँ नर्मदा के घाट एवं स्वरूप बदल चुका है पानी के अंदर 50 50 फिट के गहरे गड्ढे कर दिए गए हैं। उक्त जानकारी विधायक मीडिया प्रभारी भागीरथ तिवारी द्वारा दी गई है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close